बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त

बरसात से कुल 50 लोगों की मौत हो गई है। कई घायल हैं। रेलवे ट्रैक पर ओएचई लाइन टूट जाने से कई ट्रेनों के पहिए थम गए। विमान सेवा बाधित हुई। बिजली व्यवस्था चरमरा गई। (रिपोर्ट- डा० शक्ति कुमार पाण्डेय, राज्य संवाददाता, ग्लोबल भारत न्यूज नेटवर्क)

बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त

कुल 50 लोगों की मौत हो गई है। कई घायल हैं। रेलवे ट्रैक पर ओएचई लाइन टूट जाने से कई ट्रेनों के पहिए थम गए। विमान सेवा बाधित हुई। बिजली व्यवस्था चरमरा गई।

(रिपोर्ट- डा० शक्ति कुमार पाण्डेय, राज्य संवाददाता, ग्लोबल भारत न्यूज नेटवर्क)

लखनऊ, 17 सितम्बर।

बादल मेहरबान हुए तो गुरुवार को सीजन की सबसे तेज बारिश का रिकार्ड बन गया। शहर की सड़कें, गलियां, मुहल्ले और घरों में घुटनों से ऊपर तक पानी भर गया। बुधवार को देर रात शुरू हुई बारिश गुरुवार को पूरे दिन जारी रही।

हजरतगंज, चारबाग, कैसरबाग, चौक, डालीगंज, पुराना लखनऊ, बालू अड्डा, जियामऊ, सदर, गोमतीनगर, इंदिरानगर, महानगर, कपूरथला, राजाजीपुरम, कृष्णानगर, आलमबाग, एयरपोर्ट, तेलीबाग, रायबरेली रोड, सीतापुर रोड, हरदोर्ई रोड, अयोध्या रोड व सुलतानपुर रोड इत्यादि सभी स्थान मूसलाधार बारिश से जलमग्न हो गए।

मौसम विभाग के निदेशक डा. जेपी गुप्ता के अनुसार गुरुवार को सीजन की सबसे अच्‍छी बारिश हुई। उत्तर प्रदेश के कई शहरों में बुधवार रात से हो रही मूसलाधार बारिश ने कहर ढा दिया है। गुरुवार को जगह-जगह मकान, दीवार, पेड़ और बिजली के खंभे गिर गए।

सबसे ज्यादा नुकसान अवध क्षेत्र में हुआ है। लखनऊ में तीन समेत यहां 21 लोगों की जान चली गई।

उत्तर प्रदेश के कई शहरों में बुधवार रात से हो रही मूसलाधार बारिश ने कहर ढा दिया है। गुरुवार को जगह-जगह मकान, दीवार, पेड़ और बिजली के खंभे गिर गए। रेलवे ट्रैक पर ओएचई लाइन टूट जाने से कई ट्रेनों के पहिए थम गए। विमान सेवा बाधित हुई। बिजली व्यवस्था चरमरा गई। कुल 50 लोगों की मौत हो गई है। कई घायल हैं। सबसे ज्यादा नुकसान अवध क्षेत्र में हुआ है। लखनऊ में तीन समेत यहां 21 लोगों की जान चली गई। 

घनघोर बारिश के चलते लखनऊ के मोहिबुल्लापुर स्टेशन पर जलभराव में डूबने से दो बच्चों की और अलीगंज में बिजली का झटका लगने से एक बच्चे की जान चली गई। निगोहा में एक घर, मोहनलालगंज में तहसील की छत समेत आधा दर्जन घरों की दीवारें ढह गईं। लखनऊ का दो तिहाई हिस्सा जलमग्न हो गया। 

मानकनगर में ट्रैक पर पानी भरने से कानपुर से आने-जाने वाली ट्रेनें उत्तर रेलवे के ट्रैक से गईं। जिले में बिजली का हाहाकार रहा। 52 से अधिक पोल पेड़ गिरने व चार दर्जन से अधिक ट्रांसफर दग गए। तीन उड़ानों को दूसरे एयरपोर्ट के लिए डायवर्ट कर दिया गया। शारजाह समेत दिल्ली, मुंबई की तीन उड़ानें निरस्त हुईं। 

बाराबंकी के बसायगपुर मजरा ढेमा, खुशेहटी्, महमूदपुर मजरे टिकरा घाट, जेठौती कुर्मियान और रबड़हिया गांव में दीवार व कच्चे मकान गिरने से पिता-पुत्र समेत आठ लोगों की मौत हो गई है। पेड़ टूटने से लखनऊ-अयोध्या नेशनल हाईवे पर डेढ़ घंटे से अधिक जाम लगा रहा। 

आसमानी आफत के बीच लोगों को 15 से 20 घंटे तक बिजली संकट भी झेलना पड़ा। झमाझम बारिश की वजह से बृहस्पतिवार को 40 लाख की आबादी बिजली से महरूम रही। शहरी क्षेत्र में 80 फीसदी व ग्रामीण क्षेत्र में 95 फीसदी इलाकों की बिजली सप्लाई बाधित हुई है। कई क्षेत्रों में करंट उतरने की शिकायतें भी आई। बिजली न होने से लोग पानी के लिए भी तरस गए।

सर्वाधिक संकट गोमतीनगर, इंदिरानगर, कैंट, राजाजीपुरम, आशियाना, वृंदावन, रजनीखंड, आलमबाग, चौक, विकासनगर, जानकीपुरम एवं महानगर के लोगों ने झेला। जबकि काकोरी, मलिहाबाद, माल, रहीमाबाद, निगोहा, मोहनलालगंज, गोसाईगंज कस्बे व गांवों में देर रात तक संकट रहा। इन इलाकों में लाइनों पर पेड़ गिरने से पोल-तार टूटने व बारिश का पानी भरने के कारण बिजली बंद हो गई। उधर, इंदिरानगर के सेक्टर 25, कल्याणपुर, सर्वोदयनगर, आशियाना एवं वैद्य स्टील तालकटोरा उपकेंद्रोें में पानी घुसने से बिजली बंद करनी पड़ी।

मड़ियांव इलाके में बृहस्पतिवार को बेसमेंट के लिए खुदे गड्ढे में मूसलाधार बारिश से पानी भर गया। पल्टन छावनी के दो किशोरों ने नहाने के लिए गड्ढे में छलांग लगा दी। गहराई ज्यादा होने के कारण दोनों की डूबने से मौत हो गई। पुलिस ने गोताखोंरों की मदद से दो घंटे में दोनों के शव बाहर निकलवाए। शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिए।

प्रभारी निरीक्षक मनोज कुमार सिंह के मुताबिक, पल्टन छावनी सीतापुर रोड में फूलचंद गुप्ता परिवार सहित रहकर कबाड़ का काम करते हैं। पड़ोस में सब्जी का ठेला लगाने वाले उन्नाव निवासी सहदेव गुप्ता का परिवार भी रहता है। फूलचंद का बेटा अनुज (14) व सहदेव का बेटा सुंदरम (15) सुबह 11 बजे नहाते हुए मोहिबुल्लापुर स्टेशन के पास पहुंच गए, जहां खुदे बेसमेंट में ज्यादा पानी भरा था। इसमें नहाते वक्त दोनों डूब गए।

सूचना पर पहुंची पुलिस ने किशोरों की तलाश शुरू की, लेकिन कुछ पता नहीं चला। इसके बाद गोताखोरों की मदद से दो घंटे की तलाश के बाद किशोरों के शव बाहर निकाले गए। पुलिस के मुताबिक, तहरीर मिलने के बाद कार्रवाई की जाएगी।

राजधानी में बुधवार रात से हो रही तेज बारिश का असर हवाई सेवाओं पर भी पड़ा है। बारिश के चलते अमौसी एयरपोर्ट पर दृश्यता घटने से विमानों की लैंडिंग मुश्किल हो गई

लखनऊ आने वाली उड़ानें हवा में चक्कर काटती रहीं, जब लैंडिंग के हालात नहीं बने तो डायवर्ट कर दिया गया। वहीं, शारजाह की तीन उड़ानों के अलावा दिल्ली व मुंबई की भी तीन फ्लाइटें निरस्त रहीं तथा कई देरी की शिकार हुईं।

लखनऊ से दिल्ली आने वाली गोएयर की फ्लाइट (जी8-175) निरस्त कर दी गई। इंडिगो की फ्लाइट (6ई-2125) करीब एक घंटे की देरी से उड़ान भर सकी।

वहीं दिल्ली से लखनऊ आने वाली गोएयर की फ्लाइट (जी8-268) निरस्त रही। इंडिगो की 6ई-2118 दिल्ली एयरपोर्ट से 54 मिनट की देरी से उड़ान भर सकी।

ऐसे ही लखनऊ से मुंबई की गोएयर की फ्लाइट (जी8-2620) निरस्त रही। एयर इंडिया की एआई-626 बृहस्पतिवार को निरस्त कर दी गई और मुंबई से लखनऊ की एयर इंडिया की एआई-625 एक घंटे 20 मिनट की देरी से उड़ान भर सकी, पर लखनऊ में मौसम खराब होने से दिल्ली डायवर्ट कर दी गई।

वहीं, दुबई एयरलाइंस की उड़ान (एफजेड-433) सुबह 06:55 बजे आती है। सुबह 07:51 बजे यहां पहुंची, लेकिन बारिश के चलते लैंडिंग की अनुमति नहीं मिली।

इसी तरह अहमदाबाद से आने वाली गो एयर की उड़ान (जी-8/531) और मुंबई से आने वाली एयर इंडिया की उड़ान (एआई-625) को तेज बारिश के चलते दिल्ली के लिए डायवर्ट कर दिया गया।

अडानी एयरपोर्ट प्रशासन ने बताया कि खराब मौसम और कम दृश्यता की वजह से तीन उड़ानें डायवर्ट हुईं। शारजाह से आने वाली अंतरराष्ट्रीय उड़ानें रद्द कर दी गई हैं। हालांकि, कुछ मामूली बदलावों के साथ अन्य एयरलाइंस सुचारु रूप से चल रही हैं।

लखनऊ और आसपास के क्षेत्रों में भारी बारिश और मौसम विभाग की चेतावनी को देखते हुए लखनऊ विश्वविद्यालय व सम्बद्ध कॉलेज शुक्रवार और शनिवार को बंद रहेंगे।

जय नारायण पीजी कॉलेज (केकेसी) की ओर से सूचना जारी की गई है कि 17 और 18 सितंबर को होने वाली यूजी प्रवेश की काउंसलिंग प्रक्रिया को खराब मौसम के चलते स्थगित कर दिया गया है। अब यह काउंसलिंग 20 सितंबर से फिर शुरू होगी और प्रत्येक कार्य दिवस में सुबह 10 बजे से 3 बजे तक चलेगी। बीए और बीकॉम की द्वितीय मेरिट लिस्ट की वैधता अब 22 सितंबर तक रहेगी। वहीं बीएससी (बायो), बीएससी (मैथ्स), बीएससी (कंप्यूटर साइंस), बीएससी (सांख्यिकी) और बीकॉम (ऑनर्स) के द्वितीय मेरिट लिस्ट की वैधता 21 सितंबर तक रहेगी। इन सूचियों से बची हुई सीटों पर दाखिले के लिए तृतीय मेरिट लिस्ट जारी की जाएगी।

बीते 24 घंटों से हो रही बारिश ने ग्रामीण इलाकों पर कहर बरपाया। कहीं कच्चा मकान ढह गया तो कहीं सड़क ही तेज बहाव में बह गई। पानी भरने की वजह से कई गांवों का एक दूसरे या तहसील मुख्यालय से सम्पर्क टूट गया। तहसील स्तर पर प्रशासन लगातार राहत और बचाव कार्य कर रहा है। नगराम में कई गौ आश्रय स्थलों में भी बारिश का पानी भर गया।

नगराम के अनैया खरगापुर में कच्चा मकान बारिश से ढह गया। कृष्णानन्द परिवार समेत उस समय पड़ोसी के घर में थे जब उनका घर ढह गया। फिलहाल कोई हताहत नहीं हुआ है। मकान गिरने से राशन समेत गृहस्थी का सामान मलबे में दब गया।

सूचना मिलते ही एसडीएम मोहनलालगंज शुभी काकन तहसीलदार के साथ मौके पर पहुंची और पीड़ित परिवार को राशन किट दिया। साथ ही कोटेदार से 40 किलो राशन दिलवाया। परिवार को गांव के मंदिर की पक्की बारादरी में शरण दिलवाई।