पूर्व राज्यपाल श्री राम नाईक ने “उत्तरप्रदेश स्थापना दिवस” के मौके पर प्रदेश वासियों को बधाई दिया।

उल्लेखनीय है कि श्री राम नाईक की अगुवाई में ही उत्तरप्रदेश की योगी सरकार ने वर्ष 2018 में प्रत्येक 24 जनवरी को उत्तरप्रदेश स्थापना दिवस मनाने का निर्णय लिया था।

डा. शक्ति कुमार पाण्डेय
विशेष संवाददाता

मुम्बई, 23 जनवरी।
उत्तरप्रदेश के पूर्व राज्यपाल श्री राम नाईक ने उत्तरप्रदेश स्थापना दिवस के मौके पर प्रदेश वासियों को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं दी हैं।

उल्लेखनीय है कि श्री राम नाईक की अगुवाई में ही उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने वर्ष 2018 में प्रत्येक 24 जनवरी को प्रदेश का स्थापना दिवस मनाने का निर्णय लिया था।

आज चौथे “उत्तरप्रदेश स्थापना दिवस” की पूर्व संध्या पर श्री राम नाईक ने प्रदेश की राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तथा सभी उत्तरप्रदेश वासियों हार्दिक बधाई दी है।

अपने बधाई संदेश में श्री राम नाईक ने कहा कि विगत वर्ष से पूरा विश्व करोना आपदाग्रस्त है, और ऐसी कठिन परिस्थिति का देश का सबसे बड़ा प्रदेश होते हुए भी डटकर मुक़ाबला करके विश्व के सन्मुख आदर्श व्यवस्थापन का नया आयाम प्रस्थापित करने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ प्रशंसा और साधुवाद के पात्र हैं।

इस अवसर पर श्री नाईक ने कहा कि एक ओर प्रदेश वासियों को करोना से राहत तो दूसरी ओर लाखों गरीब प्रदेश वासियों के लिए आवास योजना का कार्य उत्तर प्रदेश में योगी सरकार कर रही है, इस बात का मुझे अत्यंत आनंद है और गर्वानुभूति हो रही है।

उन्होंने कहा कि पहले “उत्तरप्रदेश स्थापना दिवस” पर योगी सरकार ने ‘एक जनपद एक उत्पाद’ (OPOD) की घोषणा की थी, जिसके अच्छे परिणाम दिखाई देने लगे हैं। अब इस वर्ष के “उत्तरप्रदेश स्थापना दिवस” के अवसर पर ‘हुनर हाट’ का उदघाटन हुआ है।

इस हुनर हाट में सभी जनपदों के परम्परागत हस्तशिल्पियों एवं कारीगरों को अपने अपने उत्पाद प्रदर्शित करने का अवसर दिया जा रहा है। श्री नाईक ने इस बात पर भी संतोष जताया।

श्री राम नाईक ने आगे कहा कि उत्तर प्रदेश में राम मंदिर बनने के साथ-साथ प्रदेशवासियों को राम राज्य की अनुभूति प्राप्त होगी, ऐसी आशा व्यक्त करता हूं।

श्री नाईक ने मुंबई में निवास करनेवाले उत्तरप्रदेश वासियों के साथ उत्तरप्रदेश स्थापना दिन मनाया, जिसमें उत्तरप्रदेश स्थापना दिवस के लिए विशेष प्रतीक चिन्ह (लोगो) का उनके हाथों से विमोचन भी किया गया।