प्रतापगढ़ के श्रीकृष्णजीपुरम् रूपापुर मोहल्ले में साहित्यिक संस्था कविकुल की बैठक और काव्यगोष्ठी का आयोजन।

गीतकार सुनील 'प्रभाकर' के संयोजकत्व में आयोजित काव्य गोष्ठी की अध्यक्षता कविकुल अध्यक्ष वरिष्ठ साहित्यकार परशुराम उपाध्याय 'सुमन' एवं संचालन यशस्वी रचनाकार सुरेश 'संभव' ने किया।

डाo शक्ति कुमार पाण्डेय
विशेष संवाददाता
ग्लोबल भारत न्यूज नेटवर्क

प्रतापगढ़, 1 जुलाई।

प्रतापगढ़ के श्रीकृष्णजीपुरम् रूपापुर मोहल्ले में साहित्यिक संस्था कविकुल की बैठक और काव्यगोष्ठी का आयोजन हुआ।

गीतकार सुनील ‘प्रभाकर’ के संयोजकत्व में आयोजित काव्य गोष्ठी की अध्यक्षता कविकुल अध्यक्ष वरिष्ठ साहित्यकार परशुराम उपाध्याय ‘सुमन’ एवं संचालन यशस्वी रचनाकार सुरेश ‘संभव’ ने किया।

कोरोना संक्रमण काल के समाहार का संदेश देते हुए शहर के निकट श्रीकृष्ण जी पुरम रूपापुर मोहल्ले में स्थित “सृजन कुंज” में आयोजित सान्ध्य कालीन काव्य गोष्ठी में साहित्यकारों ने विविध रचनाएं प्रस्तुत किया।

मां वीणापाणि की वंदना के साथ शुरू हुई गोष्ठी में सुरेश नारायण दुबे ‘ब्योम’ ने सुमधुर गीत गुनगुनाते हुए पंक्तियां पढ़ी –

“तुम हो मेरी शहनाइयां तन्हाइयों में तुम,
तुम हो शिशिर की धूप अमराइयों में तुम”

साहित्यिक माहौल बनाते हुए गीतकार सुनील प्रभाकर ने पढ़ा कि

“समर में यूं तो हमसाए बहुत हैं,
करें क्या आप ही भाए बहुत हैं”

उन्होंने मनोहारी गजल पढ़कर सभी को भाव विभोर कर दिया।

गोष्ठी को आगे बढ़ाते हुए शेष नारायण दुबे ‘राही’ ने पढ़ा…..

“इस डगर से उस डगर चलता रहा मैं उम्र भर,
पांव में समेटे हुए जिंदगी का यह सफर”

संचालन कर रहे सुरेश संभव की कविता थी….

“यह नदी संत्राशदी की पार कर लेंगे।
फिर कभी संवाद पर संवाद कर लेंगे।”

अध्यक्षता कर रहे परशुराम उपाध्याय सुमन ने गोष्ठी को ऊंचाई पर पहुंचाते हुए “पथिक” शीर्षक के गीत की पंक्तियां गुनगुनाया-

“प्रगति पथ का दीप लेकर चल पड़ा हूं।
‘सुमन’ ले संकल्प ध्वज जिद पर अड़ा हूं।”

आदि सुनाकर गोष्ठी का समाहार किया।

गोष्ठी में उपस्थित किशन पांडेय सहित सृष्टि पांडेय व सुप्रिया पांडेय ने रचनाओं का भरपूर आनंद लिया।

अंत में साहित्यकारों ने सर्वसम्मति से निर्णय लिया कि आगामी 13 जुलाई, 2021 को साहित्यिक संस्था कविकुल के संस्थापक साहित्य शिरोमणि श्रद्धेय आद्या प्रसाद “उन्मत्त” जी की जयंती पर उनके पैतृक गांव मल्हूपुर में भव्य कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा।