डकोटा एडवांस एयरक्राफ्ट को उड़ाने वाले ट्रेंड पायलट, भारत माता के पुत्र बीजू पटनायक।।

इंडोनेशिया की आजादी की 50वी सालगिरह पर वहाँ के राष्ट्रपति से इंडोनेशिया का सम्मान (भारत रत्न के समतुल्य) भूमि पुत्र प्राप्त करने वाले।।

ग्लोबल भारत न्यूज़ नेटवर्क

शख्सियत, 02 जुलाई:- भारत की राजनीति में आज हम हर कदम पर जब घोटालेबाजों को देखते हैं तो ऐसे नेताओं की बेहद कमी नजर आती है जिनके दामन पर कभी घोटालों का दाग लगा ही ना हो। लेकिन भारतीय राजनैतिक इतिहास में ऐसे कई नेता हुए हैं जिन्होंने अपनी छवि से एक आदर्श नेता के रूप को चरितार्थ किया है, ऐसे ही नेताओं में से एक थे उड़ीसा के पूर्व मुख्यमंत्री और भारतीय राजनीति के शांत “हीरो” स्व. बीजू पटनायक। बिजयानंद पटनायक को बीजू पटनायक के नाम से जाना जाता है। एक राजनेता के अलावा वह एक एयरनोटिकल इंजीनियर, नेविगेटर, उद्योगपति, स्वतंत्रता सेनानी व पायलट थे। इन सबसे ऊपर उन्हें एक अभूतपूर्व व्यक्तित्व के तौर पर जाना जाता है। नेपोलियन उनके प्रेरणा थे और बीजू ने उन्हीं के पदचिन्हों का अनुसरण किया। बीजू पटनायक लोगों को प्रोत्साहित करने और विश्वास जीतने में दक्ष थे। वह लोगों के साथ प्रभावशाली ढंग से बात करते थे और अपने विचार जनता तक सही ढंग से पहुंचाने में समर्थ थे। अपनी दृढ़ इच्छा और त्याग के चलते वह एक प्रसिद्ध राजनेता और सामाजिक कार्यकर्ता बने। उन्होंने स्वतंत्रता संग्राम में सक्रिय रूप से भाग लिया और उड़ीसा के लोगों के लिए आदर्श व्यक्तित्व बन गए। उड़ीसा की जनता के लिए उन्होंने कहा था, 21वीं सदी के राज्य का मेरा सपना था, मेरे पास ऐसे पुरुष व महिलाएं हों जिनकी नजर में व्यक्तिगत हित से पहले राज्य का हित आता हो। उन्हें खुद पर गर्व होगा और वे स्वयं में आत्मविश्वास महसूस करेंगे। वे खुद को छोड़कर किसी की दया पर निर्भर नहीं रहेंगे।

प्रारम्भिक जीवन:- बीजू पटनायक का जन्म उड़ीसा के कटक में 5 मार्च 1916 को हुआ। उनके पिता का नाम स्वर्गीय लक्ष्मीनारायण पटनायक और माता का नाम आशालता देवी था। उनके पिता उड़िया आंदोलन के अग्रणी सदस्य और जाने-माने राष्ट्रवादी थे। उनके दो भाई और एक बहन थी। उन्होंने अपनी प्राथमिक शिक्षा मिशन प्राइमरी स्कूल और मिशन क्राइस्ट कॉलेजिएट कटक से पूरी की। 1927 में वह रेवेनशॉ विद्यालय चले गए, जहां एक समय पर नेताजी सुभाषचंद्र बोस ने भी अध्ययन किया था। वह अपने कॉलेज के दिनों में प्रतिभावान खिलाड़ी थे और यूनिवर्सिटी की फुटबॉल, हॉकी और एथलेटिक्स टीम का नेतृत्व करते थे। वह तीन साल तक लगातार स्पोर्ट्स चैंपियन रहे। दिल्ली फ्लाइंग क्लब और एयरनोटिक ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया में पायलट का प्रशिक्षण लेने के लिए उन्होंने बीच में ही पढ़ाई छोड़ दी। बचपन से ही उनकी रुचि हवाई जहाज उड़ाने में थी। इस प्रकार वह एक प्रख्यात पायलट और नेविगेटर बन गए। बीजू पटनायक ने इंडियन नेशनल एयरवेज ज्वाइन कर ली और एक पायलट बन गए। 1940-42 के दौरान जब स्वतंत्रता का संघर्ष जारी था, वह एयर ट्रांसपोर्ट कमांड के प्रमुख थे।

महात्मा गांधी से थे प्रभावित:- सादगी भरा जीवन और साहसी विचार यही थी पहचान बीजू पटनायक की, बीजू पटनायक एक पायलट थे और उनमें साहस कूट-कूट कर भरा था। अपने साहसी स्वभाव के कारण ही वह जिंदगी की किसी भी परेशानी से डरते नहीं बल्कि उसका डटकर सामना करते थे, एक स्वतंत्रता सेनानी, पायलट, प्रधानमंत्री सलाहकार और फिर मुख्यमंत्री की भूमिका में उन्होंने एक आदर्श नेता का रोल मॉडल पेश किया। वह महात्मा गांधी से बहुत प्रभावित थे। उन्होंने भारत छोड़ो आंदोलन में भाग लिया और 1943 में दो साल के लिए जेल की सजा भी काटी। उन पर स्वतंत्रता सेनानियों को अपने प्लेन में गुप्त स्थान तक पहुंचाने का आरोप था। जब दूसरा विश्वयुद्ध शुरू हुआ, तब उन्होंने रॉयल इंडियन एयरफोर्स ज्वाइन कर लिया। उन्होंने इंडोनेशिया के स्वतंत्रता आंदोलन में भी अहम भूमिका निभाई। पंडित जवाहर लाल नेहरू के मार्गदर्शन में उन्होंने डच शासकों के चंगुल से इंडोनेशिया के लोगों को आजाद होने में मदद की। 23 मार्च 1947 को पंडित नेहरू ने 22 एशियाई देशों की पहली इंटर एशिया कांफ्रेंस में भाग लेने के लिए बीजू पटनायक को भी आमंत्रित किया। इस कांफ्रेंस में इंडोनेशिया के प्रधानमंत्री सुल्तान सजाहिर्र भी आमंत्रित थे। पंडित नेहरू बीजू पटनायक पर भरोसा करते थे इसलिए उन्होंने प्रधानमंत्री सुल्तान सजाहिर्र का आगमन सुरक्षित सुनिश्चित करने के लिए उनसे कहा और बीजू पटनायक ने अपनी जिम्मेदारी बखूबी निभाई। इसके बाद इंडोनेशिया के लोगों में उनकी छवि एक नायक की बन गई।

मुख्यमंत्री पद पर रहते हुए उड़ीसा की सेवा की:- वर्ष 1946 में बीजू उत्तर कटक विधानसभा क्षेत्र से निर्वाचित होकर विधानसभा पहुंचे। 1961 से 1963 तक उन्होंने उड़ीसा के मुख्यमंत्री के तौर पर काम किया। वह लोकसभा और राज्यसभा के सदस्य भी रहे। 1975 में जब देश में आपातकाल था, तब अन्य विपक्षी नेताओं के साथ गिरफ्तार होने वाले वह पहले व्यक्ति थे। 1977 में वह जेल से छूटे और केंद्रपारा से लोकसभा के लिए निर्वाचित हुए तथा 1979 तक मोरारजी देसाई और चौधरी चरण सिंह की सरकार में केंद्रीय लोहा इस्पात व खनन मंत्री रहे। 1980 में बीजू लोकसभा के लिए निर्वाचित हुए और 1986 में वह पुनः लोकसभा का चुनाव जीत गए। 1990 के विधानसभा चुनाव में जनता दल की जीत हुई और वह पुनः उड़ीसा के मुख्यमंत्री बने। उन्होंने 1995 तक मुख्यमंत्री पद पर रहते हुए उड़ीसा की सेवा की।

इंडोनेशिया की सरकार ने उन्हें सर्वोच्च नागरिक सम्मान भूमिपुत्र से नवाजा:- अपने साहसिक कार्य के कारण अंतर्राष्ट्रीय क्षेत्र में चर्चा में आ गये जापानियों के हाथो पराजित डच अधिकारी युद्ध के बाद इंडोनेशिया पर कब्जा करके वहा के राष्ट्रीय नेताओं को देश से बाहर ले जाने की योजना बना रहे थे, तभी नेहरु जी के कहने पर बीजू पटनायक अकेले अपना जहाज लेकर जकार्ता पहुचे और शहरयार सहित वहाँ के राष्ट्रीय नेताओं को सुरक्षित बाहर निकाल लाये थे। इस उपकार के लिए इंडोनेशिया ने उन्हें अपना सर्वोच्च पुरुस्कार “भूमिपुत्र” दिया था। इसी प्रकार 1948 में क्बाइलो और छद्म वेश में पाकिस्तानी सैनिको ने कश्मीर पर आक्रमण किया तो भारतीय सेना को सबसे पहले श्रीनगर के हवाई अड्डे पर बीजू पटनायक ने ही उतारा था। 1960 के बाद वे चुनावी राजनीति में प्रविष्ट हुए और उडीसा के मुख्यमंत्री बने, उनकी क्षमता और योग्यता को देखकर 1962 में चीनी आक्रमण के बाद जवाहर लाल नेहरु ने बीजू को दिल्ली बुला लिया और वे गोपनीय कार्यो में प्रधानमंत्री की सहायता करते रहे। भूमिपुत्र पुरस्कार उनकी वीरता और साहसिक कार्यों के चलते दिया गया। 1996 में इंडोनेशिया की स्वतंत्रता की 50वीं वर्षगांठ के मौके पर उन्हें सर्वोच्च राष्ट्रीय पुरस्कार बिनतांग जासू उतमा प्रदान किया गया। दुनियाभर के वैज्ञानिकों को प्रोत्साहित करने के लिए उन्होंने 1952 में कलिंग फाउंडेशन ट्रस्ट की स्थापना की और कलिंग पुरस्कार की पहल की, जिसे यूनेस्को द्वारा विज्ञान के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्यों के लिए प्रदान किया जाता है। इसके अलावा उन्होंने पारादीप बंदरगाह के निर्माण में बड़ा योगदान दिया। बीजू पटनायक का निधन 17 अप्रैल 1997 को ह्रदय और सांस की बीमारी के चलते हो गया।

जीवन घटनाक्रम पर एक नज़र

01- 1916- कटक (उड़ीसा) में जन्म हुआ।।

02- 1927- रेवेनशॉ कॉलेज में पढ़ाई की।।

03- 1940/42- एयर ट्रांसपोर्ट कमांड के मुखिया के तौर पर सेवाएं दी।।

04- 1941- जापान द्वारा म्यामांर पर कब्जा करने के बाद ब्रिटिश नागरिकों को आजाद कराया।।

05- 1943- भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान जेल गए।।

06- 1946- उड़ीसा विधानसभा के लिए निर्वाचित हुए।।

07- 1952- कलिंग फाउंडेशन ट्रस्ट की स्थापना की।।

08- 1961/63- उड़ीसा के मुख्यमंत्री रहे।।

09- 1975- आपातकाल में जेल जाना पड़ा।।

10- 1977- जेल से छूटकर आए और संसद सदस्य निर्वाचित हुए।।

11- 1977/79- केंद्र में इस्पात और खनन मंत्री बने।।

12- 1980- लोकसभा के सदस्य बने।।

13- 1990/95- उड़ीसा के मुख्यमंत्री रहे।।

14- 1996- लोकसभा के लिए पुनः निर्वाचित हुए।।

15- 1997- दिल और सांस की बीमारी के चलते मृत्यु हो गई।।