ये हैं दुनिया के कुछ अनसुलझे रहस्य जिसको विज्ञान भी सुलझाने में रहा है असमर्थ।

ग्लोबल भारत न्यूज़ नेटवर्क
संकलन:- विकास पाण्डेय
(संवाददाता)

ये युग इक्कसवीं सदी का है और अभी तक विज्ञान ने अभूतपूर्व तरक्की कर ली है बहुत से ऐसे अनसुलझी पहेलियों को विज्ञान ने सुलझाया है लेकिन हमारी दुनिया मे कुछ ऐसे रहस्य हैं जिनसे पर्दा उठना अभी बाकी है। आइए इस लेख में हम आपको दुनिया के कुछ ऐसे अनसुलझे रहस्यों का बारे में बताएंगे जिससे विज्ञान भी आज तक पर्दा नही उठा पाया।

1. रामेश्वरम में तैरते पत्थरों का रहस्य।

मानस महापुराण में वर्णित कथा के अनुसार श्रीराम अपने पिता राजा दशरथ की आज्ञा पालन के 14 वर्ष के लिए वनवास गए थे उसी समय लंका पति रावण उनकी धर्मपत्नी सीता का हरण कर समुद्र पार लंका(श्रीलंका) ले गया था। तब श्रीराम ने लंका पहुंचने के लिए एक तैरते हुए पुल (Floating Bridge) का निर्माण करवाया था जो आज ‘रामसेतु’ या एडम ब्रिज के नाम से जाना जाता है। यह पुल पूरी तरह से तैरते हुए पत्थरों से बना है। इसमें चौंकाने वाली बात यह है कि इसके आस-पास क्षेत्र में मौजूद पत्थरों में कुछ पत्थर सामान्य स्थिति में हैं लेकिन जब इन्हें पानी में डाला जाता है तो ये तैरने लगते हैं। कई सारे वैज्ञानिकों ने कितनी बार इस पर खोज (resarch) कर इसके रहस्यों का बारे में जानकारी करने का प्रयास किया किंतु अब तक न तो विज्ञान और न ही वैज्ञानिक इसके पीछे के रहस्य को सामने नही ला सके हैं।

2. संतुलित चट्टान (BALANCING ROCK)

संतुलित चट्टान तमिलनाडु के महाबलीपुरम में एक विशाल चट्टान की तीव्र ढलान पर रखा हुआ एक पत्थर है। जिसे देखने पर ऐसा प्रतीत होता है कि यह पत्थर कभी भी लुढ़क सकता है। इसे देखने के लिए पर्यटक दूर-दूर से आते हैं। लोग इसे देखकर आश्चर्यचकित होते हैं कि यह चट्टान इतनी तीव्र ढलान पर स्थिर कैसे रह सकती है? 1908 में अंग्रेजी सरकार ने इसे हटाने की नाकाम कोशिशें की लेकिन उसको सफलता नही मिली। स्थानीय लोग इसे आस्था से जोड़कर देखते हैं। उनका मानना है यह भगवान श्रीकृष्ण के माखन का मटका है जो आसमान से गिरा था। खैर धार्मिक आस्था हो या कुछ और फिलहाल बहुत कोशिशों के बाद भी वैज्ञानिक इस रहस्य पर से भी अब तक पर्दा उठाने में नाकाम रहे हैं।

3. राजस्थान के अलवर में स्थित भानगढ़ का किला।

यदि आप भूत-प्रेत और आत्माओं को नही मानते तो आपको भानगढ़ स्थिति किला आपको सोचने के लिए विवश कर देगा। यह किला राजस्थान के अलवर जिले में स्थित है। स्थानीय लोगों एवं पर्यटकों द्वारा बताया गया कि यहां पर कुछ संदिग्ध घटनाएं हुई हैं। उनका मानना है कि इस किले में भूत-प्रेत सहित आत्माओं का वास है। रात्रि के समय इस किले में आत्माओं के होने की आहटें सुनी जा सकती हैं। एक ऐसी भी मान्यता है कि जो भी रात में इस किले में गया है वो वापस नही आया है। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग ने यहां पर एक चेतावनी बोर्ड लगा रखा है जिस पर स्पष्ट रूप से लिखा है कि सूर्योदय के पहले और सूर्यास्त के बाद इस किले में जाने पर प्रतिबंध है। यह किला सुंदर वास्तुकला, हवेली, मन्दिर, खंडहर, उद्यान से सुसज्जित है।

4. नाज़का लाइंस, नाज़का रेगिस्तान दक्षिणी पेरू।

पेरू में स्थित नाज़का रेगिस्तान में विशेष तरह की मनुष्यों, पौधों और जानवरों की आकृतियां बनी हुई हैं। इसके अतिरिक्त यहां कुछ सीधी रेखाएं भी देखने को मिली हैं। ये रेखाएं करीब 500 वर्ग किलोमीटर में फैली हैं। वैज्ञानिकों के अनुसार ये रेखाएं 200 ईसा पूर्व से इसी तरह मौजूद हैं। हेलीकॉप्टर की मदद से इन्हें और स्पष्ट देखा जा सकता है। ऐसा मानना है कि यहां दूसरे ग्रह से आये UFO उतरे थे जिसके चलते सतह पर इतनी संरचनाएं बनी। लेकिन ये सिर्फ मान्यताएं हैं रहस्य से पर्दा उठना अभी बाकी है।

5. खिसकते हुए पत्थर, मौत की घाटी कैलिफोर्निया।

डेथ वैली के नाम से विख्यात इस जगह पर सैकड़ों की संख्या में पत्थर मौजूद हैं। इस सूखे मरुस्थल पर अलग-अलग वजन के ये बड़े पत्थर ऐसे लगते हैं जैसे कि वे घिसटते हुए आगे की तरफ बढ़ रहे हों। उनके पीछे लम्बी लकीरें मौजूद हैं। यह नजारा कुछ ऐसा है कि आप देखकर हैरान रह जाएंगे। किसी इंसान या जानवर के द्वारा इन पत्थरों को घसीटने के कोई सबूत नज़र नही आते। कुछ लोगों का मानना है भौगोलिक बदलाव या तूफान के चलते कुछ ऐसे स्थितियों में मौजूद हैं।

6. इंग्लैंड का स्टोनहेन्ज।

इंग्लैंड के विल्टशायर में स्थित स्टोनहेन्ज अब तक रहस्यमय पहेली बना हुआ है। ग्रेनाइट के इन विशाल पत्थरों पर आठ भाषाओं अंग्रेजी, स्पेनिश, स्वाहिली, हिन्दी, हिब्रू, अरबी, चाइनीज और रशियन में लिखी लाइनें अनसुलझी पहेली हैं। विशेषज्ञों का मानना हैं कि हो सकता है कि इन पत्थरों की कोई खगोलीय विशेषता हो। इन पत्थरों पर लिखी लाइनों का मतलब अब तक किसी के समझ मे नही आया है। हांलकि प्रयास जारी है देखिए इसका रहस्य कब सामने आता है।

7. क्लियोपेट्रा रानी की मौत का रहस्य।

मिश्र की रानी क्लियोपेट्रा की मौत रहस्यमय परिस्थितियों में सिर्फ 38 साल की उम्र में ही हो गई थी। यह रानी बहुत ही खूबसूरत और आकर्षक महिला थी। रानी की मौत कैसे हुई? अभी तक मौत के पीछे का रहस्य किसी को सही तरीके से नहीं पता है। कई लोगों का मानना है कि रानी ने अपने खुद को सांपों से डसवा लिया था, तो किसी का मानना है कि ऑगस्टस ने क्लियोपेट्रा की हत्या कर दी थी। फ़िलहाल ये भी अब तक एक रहस्य ही है।