उत्तरप्रदेश सरकार में मंत्री बनवाने व विधानसभा का टिकट द‍िलवाने का ठेका लेने वाले चार जालसाज गिरफ्तार।

डाo शक्ति कुमार पाण्डेय
ग्लोबल भारत न्यूज नेटवर्क

लखनऊ, 22 जुलाई।
उत्तरप्रदेश सरकार में मंत्री बनवाने व विधानसभा का टिकट द‍िलवाने का ठेका लेने वाले चार जालसाज गिरफ्तार कर लिए गए हैं।

केंद्रीय मंत्री व उनका निजी सचिव बनकर भाजपा वालों को ही ठगने का प्रयास करने वाले गिरोह का हजरतगंज पुलिस और क्राइम ब्रांच की टीम ने राजफाश किया है।

आरोपितों ने पूंछताछ में बताया कि वे छोटे स्तर के भाजपा नेताओं को विधानसभा व विधान परिषद का टिकट दिलवाने और मंत्री बनवाने के लिए खुद को बड़ा भाजपा नेता और उनका पीए बताते थे।

इसके बाद भाजपा के छुटभैय्ए नेताओं को भरोसा दिलाते थे कि उन्हें टिकट या मंत्री पद मिल जाएगा।

आरोपित गैंग भाजपा नेताओं को मंत्री, विधान परिषद सदस्य बनाने और विधान सभा का टिकट दिलाने का झांसा देकर रुपयों की मांग करते थे। इंस्पेक्टर हजरतगंज श्यामबाबू शुक्ल के मुताबिक प्रयागराज निवासी भाजपा नेता रीता सिंह ने इस संबंध में एफआईआर दर्ज कराई थी।

मामले की गंभीरता को देखते हुए क्राइम ब्रांच और हजरतगंज की टीम ने पड़ताल शुरू की। छानबीन के दौरान पुलिस ने उत्तराखंड के ऊधमसिंह नगर, संजय कालोनी पंतनगर निवासी शमीम अहमद, इस्लामाबाद कस्बा सितारगंज निवासी हसनैन अली, नवाबगंज बरेली निवासी जाने आलम और बलिया के रानीगंज कोटवा बैरिया निवासी हिमांशु सिंह को गिरफ्तार किया गया।

पूछताछ में इन लोगों ने बताया कि वे छोटे स्तर के भाजपा नेताओं को विधानसभा, विधान परिषद का टिकट दिलवाने और मंत्री बनाने के लिए खुद को बड़ा केंद्रीय नेता और उनका पीए बनाते थे। इसके बाद भाजपा के नेताओं को फोन कर भरोसा दिलाते थे कि उन्हें टिकट या मंत्री पद मिल जाएगा।

इसके बाद टोकन मनी लेकर भाग जाते थे। प्रयागराज निवासी रीता सिंह से भी ठगों ने धोखाधड़ी की कोशिश की थी। आरोपितों ने खुद को केंद्रीय गृह मंत्री और उनके पीए के नाम पर एक करोड़ रुपये टोकन मनी मांगे थे। रीता को आरोपित विधान परिषद सदस्य व यूपी सरकार में मंत्री बनवाने का झांसा दे रहे थे।

गिरफ्तार किए गए हसनैन सिंह ने खुद को केंद्रीय मंत्री बताकर रीता सिंह से फोन पर बात की थी। इससे पहले भी आरोपितों ने एक व्यक्ति से प्रगतिशील समाजवादी पार्टी से आगामी विस चुनाव में टिकट दिलाने का झांसा देकर चार लाख रुपये टोकन मनी ले लिया था।

इसके लिए आरोपितों ने पीड़ित से पार्टी अध्यक्ष बनकर बात की थी। छानबीन में पता चला है कि गिरोह में शामिल बरेली के नवाबगंज निवासी शाहिद खां ने गृह मंत्री का पीए बनकर रीता से बात की थी। पुलिस शाहिद और उसके साथी सितारगंज उधमसिंह नगर निवासी बब्लू उर्फ विजय की तलाश कर रही है।