एंड्राइड फ़ोन में खतरनाक जोकर वायरस की फिर हुई वापसी, कौन से एप करने होंगे डिलीट।।

जोकर मैलवेयर काफी ज्यादा खतरनाक है, ये ऐप्स पॉपुलर तो है ही साथ ही ये यूजर्स की जानकारी के बिना ही उन्हें प्रीमियम कंटेंट के लिए सब्सक्राइब कर देता है। मैलवेयर की वजह से प्ले स्टोर पर ऐप्स में अपने आप ही वायरस आ जाता है, इस वजह से ऐप्स डाउनलोड होने पर ये यूजर्स के फोन में एंट्री कर जाता है।

ग्लोबल भारत न्यूज़ नेटवर्क

टेक्नोलॉजी, 25 नवंबर:- गूगल प्ले-स्टोर पर जोकर मैलवेयर की एंट्री साल 2019 में हुई थी। साल 2020 जुलाई में भी जोकर गूगल प्ले-स्टोर पर आया था और करीब 11 एप को अपना शिकार बनाया था और अब फिर से जोकर मैलवेयर की वापसी हो गई है। इस बार जोकर उन कैटेगरी के एप को इसने शिकार बनाया है जिन्हें पिछले साल बैन कर दिया गया था। जैसे- कैम स्कैनर आदि। पिछले साल जुलाई में सिक्योरिटी एजेंसी चेक प्वाइंट ने जोकर ड्रोपर और प्रीमियम डायलर स्पाइवेयर का पता लगाया था और इस बार क्विक हील सिक्योरिटी लैब ने इसकी जानकारी दी है। क्विक हील ने आठ ऐसे मोबाइल एप्स का पता लगाया है जो प्ले-स्टोर पर मौजूद हैं और उनमें यह जोकर मैलवेयर मौजूद हैं। ये एप्स आपके लिए खतरनाक हैं।

आपकी निजी जानकारी चुरा लेगा यह वायरस:- यह इंफेक्टेड ऐप गूगल प्ले स्टोर पर पेलोड-रीट्राविंग और इसके कोड को बदलने जैसी तकनीकों के जरिए काम करता है। साथ ही बताया जा रहा है कि यह मालवेयर आपके फोन से निजी जानकारी जैसे डिवाइस की जानकारी, एड्रेस बुक, टेक्स्ट मैसेज, ओटीपी इत्यादि निकाल सकता है। वहीं अब इन 14 ऐप्स पर इस खतरनाक जोकर वायरस का पता चला है और एंड्रॉइड यूजर्स को सलाह दी जाती है कि वे जांच लें कि क्या उनके फोन में भी अगर ऐसी कोई ऐप इंस्टॉल है तो उन्हें तुरंत हटा दें।

  1. स्मार्ट टीवी रिमोट
  2. पीडीएफ स्कैनर ऐप
  3. वॉल्यूम बूस्टर लाउडर साउंड इक्वलाइजर
  4. कॉल फ्लैशलाइट फ्लैश अलर्ट
  5. वॉल्यूम हियरिंग एड
  6. बैटरी चार्जिंग एनिमेशन (बबल इफेक्ट्स)
  7. Ab क्यूआर कोड स्कैन
  8. सुपर-क्लिक वीपीएन
  9. बैटरी चार्जिंग एनिमेशन वॉलपेपर
  10. क्लासिक इमोजी कीबोर्ड
  11. डेजलिंग कीबोर्ड
  12. इमोजीवन कीबोर्ड
  13. हैलोवीन रंग
  14. सुपर हीरो-इफेक्ट

कैसे बचें या कैसे रहें सुरक्षित

  1. आपको यह ध्यान रखने की बेहद आवश्यकता है कि आप किसी भी थर्ड पार्टी ऐप को डाउनलोड न करें।
  2. केवल गूगल प्ले स्टोर से ही ऐप्स डाउनलोड करें।
  3. गूगल प्ले स्टोर पर भी ऐप्स की पूरी जानकारी लिए बिना उन्हें डाउनलोड न करें।
  4. यह वायरस SMS फ्रॉड भी करता है और कई बार SMS ऐप में भी छिप सकता है। ऐसे में किसी भी SMS को डाउनलोड करने से पहले उसे अच्छे से जांच लें।
  5. ऐप को डाउनलोड करने से पहले उसके रिव्यूज पढ़ें।
  6. अगर ऐप किसी भरोसेमंद डेवलपर ने बनाई है तो ही उस पर भरोसा करें।
  7. अगर आपने इस तरह की कोई भी ऐप डाउनलोड कर ली है तो उसे तुरंत डिलीट कर दें।।