अखिलेश बोले-तिरंगा के बहाने दंगा करा सकती है भाजपा

 
अखिलेश बोले-तिरंगा के बहाने दंगा करा सकती है भाजपा
अखिलेश बोले-तिरंगा के बहाने दंगा करा सकती है भाजपालखनऊ, 5 अगस्त (आईएएनएस)। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने शुक्रवार को भाजपा पर बड़ा आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि भाजपा तिरंगा के साथ साथ दंगा भी करा सकती है।

सपा मुखिया अखिलेश यादव ने लखनऊ के जनेश्वर मिश्रा पार्क में जनेश्वर मिश्र की प्रतिमा पर माल्यापर्ण के बाद मीडिया को भी संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने भाजपा पर निशाना साधा और कहा कि भाजपा का तिरंगा यात्रा दिखावा है। सभी को सावधान रहने की जरूरत है। इसके जरिये भाजपा दंगा भी करा सकती है। पहले कासगंज में तिरंगा यात्रा के समय दंगा कराया था।

उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी जिस संगठन से निकली है उसने कभी तिरंगा नही फहराया। आप सबसे बड़ा तिरंगा देखोगे तो यह जनेश्वर मिश्र पार्क में लगा है। समाजवादियों ने जनेश्वर मिश्र पार्क के साथ कई जगह तिरंगा झंडे लगाए। भारतीय जनता पार्टी के लोग तो केवल धोखा देने का काम करते हैं।

यादव ने कहा कि पूरे देश को यह बात समझनी चाहिए कि भाजपा तो आरएसएस की पॉलिटिकल विंग है। आरएसएस का इतिहास देखेंगे तो बरसों बरस तक आरएसएस ने भारत का झंडा अपने स्थान पर नहीं लगाया है। भाजपा हमेशा बांटकर के राज करती है। वो (भाजपा) जानते हैं कि उपमुख्यमंत्री को आगे करके उनके पिछड़े होने का लाभ उठाइए। भाजपा की सरकार में सबसे ज्यादा अगर धोखा हुआ है तो वह पिछड़े, दलित और मुसलमानों के साथ हुआ है।

अखिलेश ने कहा कि प्रधानमंत्री ने 15 हजार करोड़ रुपए की लागत के जिस बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे का उद्घाटन किया था, वह ढह गया। सरकार इन गड़बड़ियों की ईडी, सीबीआई से जांच कब कराएगी। इस भ्रष्टाचार में शामिल लोगों की सच्चाई सामने लानी चाहिए। सपा अध्यक्ष ने कहा कि देश में 22 करोड़ युवाओं ने नौकरी के लिए फार्म डाला लेकिन उन्हें नौकरी नहीं मिली। सरकार बताए कि अग्निवीर योजना में कितने नौजवानों को नौकरी दी।

उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार वन ट्रिलियन डालर इकोनामी की बात कर करती है। यूपी में कानून नाम की कोई चीज नहीं है। सबसे ज्यादा कस्टोडियल डेथ यूपी में है। सबसे ज्यादा महिलाओं के साथ अपराध यूपी में है। मानवाधिकार आयोग ने सबसे ज्यादा नोटिस यूपी सरकार को दी हैं। सबसे ज्यादा डिजिटल फ्राड उत्तर प्रदेश में हो रहा है। यूपी में कैसे निवेश आएगा।

--आईएएनएस

विकेटी/आरएचए