अग्निपथ योजना से अग्निवीरो की भर्ती की आज से होगी शुरुआत

भारतीय वायु सेना ने 24 जून, 2022 से अग्निपथ योजना के माध्यम से आवेदन करने के लिए उम्मीदवारों से आवेदन आमंत्रित किए हैं। जो उम्मीदवार अग्निवीरों पदों के लिए आवेदन करना चाहते हैं, वे agnipathvayu.cdac.in के माध्यम से ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। आवेदन प्रक्रिया आज से शुरू होगी और 5 जुलाई 2022 को समाप्त होगी।
 
अग्निपथ योजना से वायु सेना की भर्ती

ग्लोबल भारत न्यूज़ नेटवर्क

नई दिल्ली, 24 जून:- केंद्र सरकार ने थल सेना, नौसेना और वायुसेना में सैनिकों की भर्ती के लिए एक नई योजना अग्निपथ का ऐलान किया। इसके तहत, बढ़ते वेतन और पेंशन खर्च को कम करने के लिए संविदा के आधार पर अल्पकाल के लिए सैनिकों की भर्ती की जाएगी, जिन्हें अग्निवीर कहा जाएगा। इस योजना के तहत, सेना में इस वर्ष लगभग 40,000 सैनिकों की भर्ती तथा नौसेना में लगभग 3,000 नाविकों के शामिल होने की उम्मीद है और वायुसेना इस वर्ष 3,000 वायुसैनिकों की भर्ती करने के लिए तैयार है, अग्निपथ योजना भारतीय सेना की ‘टूर ऑफ ड्यूटी एंट्री स्कीम’ को दिया गया एक नया नाम है, सशस्त्र बलों ने दो साल पहले टूर ऑफ ड्यूटी योजना पर चर्चा शुरू की थी। इस योजना के तहत सैनिकों को एक शॉर्ट टर्म कॉन्ट्रैक्ट पर भर्ती किया जाना है। भर्ती होने वाले युवाओं को ट्रेनिंग की जाएगी और फिर अलग-अलग फील्ड में तैनात किया जाएगा। ये स्थायी सैनिकों की नियुक्ति करने की मौजूदा प्रथा को खत्म कर देगी और इस तरह सेना में भर्ती होने की योजना में बड़ा बदलाव देखा जाएगा, सशस्त्र बलों के पास स्पेशल वर्क के लिए स्पेशलिस्ट युवाओं की भर्ती करने का ऑप्शन भी होगा। इसके तहत सेना के तीनों विंग में भर्ती की जाएगी।

आज 24 जून को वायुसेना में पहले बैच के लिए प्रक्रिया शुरू- भारतीय वायुसेना में आज 24 जून से अग्निवीरों के पहले बैच को लेने की प्रक्रिया शुरू हो गई।

25 जून को नौसेना जारी करेगी नोटिफिकेशन- नौसेना के वाइस एडमिरल डी.के. त्रिपाठी ने कहा कि हमने अपनी भर्ती प्रक्रिया शुरू कर दी है। 25 जून तक हमारी एडवरटाइजमेंट सूचना और प्रसारण मंत्रालय में पहुंच जाएगा। एक महीने के अंदर भर्ती प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। 21 नवंबर को हमारे पहले अग्निवीर हमारे ट्रेनिंग संस्थान में रिपोर्ट करेंगे।

थलसेना में 1 जुलाई से भर्ती प्रक्रिया शुरू- विरोध प्रदर्शन के बीच सेना ने प्रेस कांफ्रेंस में तीनों सेनाओं भर्ती प्रक्रिया के लिए तारीखों का एलान कर दिया है। थलसेना ने कहा है कि उसकी भर्ती प्रक्रिया 1 जुलाई से शुरू हो जाएगी।

वायु सेना के लिए आज से होगा आवेदन- भारतीय वायु सेना ने 24 जून, 2022 से अग्निपथ योजना के माध्यम से आवेदन करने के लिए उम्मीदवारों से आवेदन आमंत्रित किए हैं। जो उम्मीदवार अग्निवीरों पदों के लिए आवेदन करना चाहते हैं, वे agnipathvayu.cdac.in के माध्यम से ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। आवेदन प्रक्रिया आज से शुरू होगी और 5 जुलाई 2022 को समाप्त होगी। इंडियन एयर फोर्स ने 24 जून, 2022 से अग्निपथ योजना के माध्यम से आवेदन करने के लिए उम्मीदवारों से आवेदन आमंत्रित किए हैं। उम्मीदवार जो अग्निवीरों पदों के लिए आवेदन करना चाहते हैं, वे agnipathvayu.cdac.in के माध्यम से ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। आवेदन प्रक्रिया कल से शुरू होगी और 5 जुलाई 2022 को समाप्त होगी। उम्मीदवार पात्रता, चयन प्रक्रिया और अन्य विवरण नीचे देख सकते हैं।

  • चयन प्रक्रिया में चरण I और चरण II परीक्षा शामिल होगी। चरण I परीक्षा पास करने वाले उम्मीदवार चरण II परीक्षा में बैठने के पात्र होंगे। ऑनलाइन परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले शॉर्टलिस्ट किए गए उम्मीदवारों के नाम को पीएफटी और उसके बाद मेडिकल टेस्ट के लिए उपस्थित होना होगा।
  • जो उम्मीदवार इस भर्ती में शामिल हो रहे हैं, उन्हें ऑनलाइन परीक्षा के लिए आवेदन करते समय 250 रुपये देना होगा। आवेदन फीस का भुगतान डेबिट कार्ड/क्रेडिट कार्ड या इंटरनेट बैंकिंग के माध्यम से किया जाएगा।
  • अग्निवीरों को वायुसेना में 1950 वायु सेना के तहत चार साल की अवधि के लिए नियुक्त किया जाएगा। किसी भी अन्य मौजूदा रैंक से अलग, भारतीय वायु सेना में एक अलग रैंक बनाएगा।
  • सेना में अग्निवीरों की भर्ती का प्लान बताते हुए लेफ्टीनेंट जनरल बंसी पोनप्पा ने बताया कि इस साल दिसंबर के पहले सप्ताह तक सेना में 25000 अग्निवीरों का पहला बैच भर्ती कर लिया जाएगा। इसके बाद फरवरी 2023 तक दूसरे बैच में अभ्यर्थियों की भर्ती कर यह संख्या 40000 पूरी कर ली जाएगी।
  • इसके मौके पर अग्निपथ योजना को लेकर उठ रहे सवालों पर रक्षा मामलों विभाग के एडमिशनल सेक्रेटरी, लेफ्टीनेंट जनरल अनिल पुरी ने सेना का पक्ष रखा। उन्होंने बताया कि लोग पूछ रहे हैं कि 4 साल बाद अग्निवीरों  का क्या होगा, लेकिन हर साल सेवा पूरी करने से पहले ही 17600 कर्मचारी सेना से रिटायर हो रहे हैं, उनके बारे में कोई नहीं पूछ रहा है कि अब वे क्या करेंगे?
  • उन्होंने हाईलेवल मीटिंग के बाद मीडिया से कहा कि अभी योजना के शुरू में 46000 अग्निवीरों की भर्ती की जा रही है, यह क्षमता अभी और बढ़ेगी। अगले 4-5 सालों में यह संख्या 50,000-60,000 होगी और फिर इसे 90 हजार से बढ़ाकर एक लाख किया जाएगा।
  • उन्होंने कहा कि सेना की योजना में 1.25 लाख तक अग्निवीरों की भर्ती की जाएगी। इस प्रकार से यदि 25 फीसदी को परमानेंट रखा जाएगा तो ऑटोमैटिकली 46,000 अग्निवीर परमानेंट रूप से भर्ती होंगे।