एक साथ तीन मौतों से शादी वाले घर में छाया मातम

कमल पुत्र बिंदादीन, प्रमोद पुत्र रामबहादुर के साथ बाइक में बैठकर परिवारिक चचेरे भाई दयाशाह की बरात में शामिल होने मोहन पुरवा जा रहे थे। तभी रास्ते में मौत ने तीनों को लपक लिया। मौत की खबर मिलते ही शादी वाले घर में मंगलगीतो की जगह चीत्कारें गूंजने लगी।
 
Banda Road Accident
रिपोर्ट- देवेंद्र देव निगम संवाददाता

ग्लोबल भारत न्यूज़ नेटवर्क

बांदा, 13 मई:- ट्रक से कुचल कर बाइक सवार तीन चचेरे भाइयो की मौत हो गई। मौत की खबर मिलते ही घरवालो में कोहराम मचा हुआ है। वही शादी वाले घर में मंगलगीतो की जगह मातम छा गया। बुझे मन से शादी की रस्म अदायगी की गई। घटना के दूसरे दिन गांव में चूल्हे नही चले।

पूरा मामला- मटौध थाना क्षेत्र के भूरागढ निवासी अजय पुत्र छोटे लाल अपने चचेरे कमल पुत्र बिंदादीन, प्रमोद पुत्र रामबहादुर के साथ बाइक में बैठकर परिवारिक चचेरे भाई दयाशाह की बरात में शामिल होने मोहन पुरवा जा रहे थे। तभी रास्ते में मौत ने तीनों को लपक लिया। मौत की खबर मिलते ही शादी वाले घर में मंगलगीतो की जगह चीत्कारें गूंजने लगी। मौत की खबर मिलते ही कुछ देर के लिए शादी की रश्में रोक दी गई। काफी देर बाद बुझे मन से बिना गाजे बाजे के शादी की सारी रस्मे पूरी की गई। मृतक अजय तीन भाईयो में सबसे छोटा था। बडे भाई दीपक की कई वर्ष पहले मौत हो गई। अजय का पिता प्लम्बर का काम करता था। ट्रेन दुर्घटना में उसका एक हाथ कट गया था। वह मजदूरी करता था। वही कमल तीन भाइयों में सबसे बड़ा था। उसके दो बेटी एक बेटा है। मजदूरी करके अपने परिवार का भरण पोषण करता था। अचानक हुई इस घटना से मां दुखियां और पत्नी सोना का रो-रोकर बुरा हाल हो गया।

प्रमोद की अगले वर्ष होनी थी शादी- मृतक प्रमोद दिल्ली में रह कर भवन पेंटिंग का काम करता था। उसके चचेरे भाई सोनू की 22 अप्रैल को शादी थी। वह चचेरे भाई की शादी में शामिल होने के लिए 18 अप्रैल को दिल्ली से आया था। उसकी शादी में तय हो चुकी थी। अगले वर्ष उसकी शादी होनी थी। प्रमोद दो भाइयों में बड़ा था। उसका पिता प्लम्बर का काम करता है। सोनू ने बताया कि प्रमोद को शादी बाद दिल्ली जाना था। वह मिलनसार था। अचानक हुई इस घटना से मां सियारानी का रो-रोकर बुरा हाल हो गया।।